BEST ASTROLOGER PUNJAB vastu Pitru paksha-2022/जाने कब से शुरू हो रहे हैं, श्राद्ध-पितृ पक्ष

Pitru paksha-2022/जाने कब से शुरू हो रहे हैं, श्राद्ध-पितृ पक्ष

जाने कब से शुरू हो रहे हैं, श्राद्ध-पितृ पक्ष

कब से शुरू हो रहे हैं श्राद्ध पितृ पक्ष »
pitru-paksh 2022 astrologerpravin

Pitru Paksha 2022 : कुछ दिनों बाद शुरू हो रहा है पितृ पक्ष, नोट कर लें श्राद्ध तिथि, महत्व, विधि और सामग्री की पूरी लिस्ट

पितृ पक्ष का हिंदू धर्म में बहुत अधिक महत्व होता है। पितृ पक्ष को श्राद्ध पक्ष के नाम से भी जाना जाता है। पितृ पक्ष में पितरों का श्राद्ध और तर्पण किया जाता है!

 पितृ पक्ष का हिंदू धर्म में बहुत अधिक महत्व होता है। पितृ पक्ष को श्राद्ध पक्ष के नाम से भी जाना जाता है। पितृ पक्ष में पितरों का श्राद्ध और तर्पण किया जाता है। इस पक्ष में विधि- विधान से पितर संबंधित कार्य करने से पितरों का आर्शावाद प्राप्त होता है। पितृ पक्ष की शुरुआत भाद्र मास में शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से होती है। आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि तक पितृ पक्ष रहता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पितृ पक्ष के दौरान पितर संबंधित कार्य करने से पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं श्राद्ध तिथि, महत्व, विधि

पितृ पक्ष आरंभ और समापन डेट

  • इस साल 10 सितंबर 2022 से पितृ पक्ष आरंभ हो जाएगा और 25 सितंबर 2022 को पितृ पक्ष का समापन हो जाएगा। 

पितृ पक्ष में मृत्यु की तिथि के अनुसार श्राद्ध किया जाता है। अगर किसी मृत व्यक्ति की तिथि ज्ञात न हो तो ऐसी स्थिति में अमावस्या तिथि पर श्राद्ध किया जाता है। इस दिन सर्वपितृ श्राद्ध योग माना जाता है।

पितृ पक्ष में श्राद्ध की तिथियां-

  • पूर्णिमा श्राद्ध – 10 सितंबर 2022-  
  • प्रतिपदा श्राद्ध – 10 सितंबर 2022
  • द्वितीया श्राद्ध – 11 सितंबर 2022
  • तृतीया श्राद्ध – 12 सितंबर 2022
  • चतुर्थी श्राद्ध – 13 सितंबर 2022
  • पंचमी श्राद्ध – 14 सितंबर 2022
  • षष्ठी श्राद्ध – 15 सितंबर 2022
  • सप्तमी श्राद्ध – 16 सितंबर 2022
  • अष्टमी श्राद्ध- 18 सितंबर 2022
  • नवमी श्राद्ध – 19 सितंबर 2022  
  • दशमी श्राद्ध – 20  सितंबर  2022
  • एकादशी श्राद्ध – 21 सितंबर 2022
  • द्वादशी श्राद्ध- 22 सितंबर 2022
  • त्रयोदशी श्राद्ध – 23 सितंबर 2022
  • चतुर्दशी श्राद्ध- 24 सितंबर 2022
  • अमावस्या श्राद्ध- 25 सितंबरर 2022

पितृ पक्ष का महत्व

  • पितृ पक्ष में पितर संबंधित कार्य करने से व्यक्ति का जीवन खुशियों से भर जाता है।
  • इस पक्ष में श्राद्ध तर्पण करने से पितर प्रसन्न होते हैं और आर्शीवाद देते हैं।
  • पितर दोष से मुक्ति के लिए इस पक्ष में श्राद्ध, तर्पण करना शुभ होता है।

श्राद्ध विधि

  • किसी सुयोग्य विद्वान ब्राह्मण के जरिए ही श्राद्ध कर्म (पिंड दान, तर्पण) करवाना चाहिए। 
  • श्राद्ध कर्म में पूरी श्रद्धा से ब्राह्मणों को तो दान दिया ही जाता है साथ ही यदि किसी गरीब, जरूरतमंद की सहायता भी आप कर सकें तो बहुत पुण्य मिलता है। 
  • इसके साथ-साथ गाय, कुत्ते, कौवे आदि पशु-पक्षियों के लिए भी भोजन का एक अंश जरूर डालना चाहिए।
  • यदि संभव हो तो गंगा नदी के किनारे पर श्राद्ध कर्म करवाना चाहिए। यदि यह संभव न हो तो घर पर भी इसे किया जा सकता है। जिस दिन श्राद्ध हो उस दिन ब्राह्मणों को भोज करवाना चाहिए। भोजन के बाद दान दक्षिणा देकर भी उन्हें संतुष्ट करें।
  • श्राद्ध पूजा दोपहर के समय शुरू करनी चाहिए. योग्य ब्राह्मण की सहायता से मंत्रोच्चारण करें और पूजा के पश्चात जल से तर्पण करें। इसके बाद जो भोग लगाया जा रहा है उसमें से गाय, कुत्ते, कौवे आदि का हिस्सा अलग कर देना चाहिए। इन्हें भोजन डालते समय अपने पितरों का स्मरण करना चाहिए. मन ही मन उनसे श्राद्ध ग्रहण करने का निवेदन करना चाहिए।

श्राद्ध पूजा की सामग्री: 

  • रोली, सिंदूर, छोटी सुपारी , रक्षा सूत्र, चावल,  जनेऊ, कपूर, हल्दी, देसी घी, माचिस, शहद,  काला तिल, तुलसी पत्ता , पान का पत्ता, जौ,  हवन सामग्री, गुड़ , मिट्टी का दीया , रुई बत्ती, अगरबत्ती, दही, जौ का आटा, गंगाजल,  खजूर, केला, सफेद फूल, उड़द, गाय का दूध, घी, खीर, स्वांक के चावल, मूंग, गन्ना।

Pitru Paksha 2022:  अश्विनी मास के 15 दिन को पितृ पक्ष कहा जाता है। इन 15 दिनों में अपने पितरों के प्रति सम्मान और श्रद्धा और उन्हें याद करने का समय है। वैसे तो घरों में हर शुभ कार्य में पितरों को याद किया जाता है, लेकिन ये 15 दिन उनके लिए खास बनाए गए हैं। जो अपने पितरों का पिंडदान करना चाहते हैं, उन्हें गया जी जाकर पंडिदान करना होता है। इस साल पितृ पक्ष 10 सितंबर से शुरू होगा और 25 सितंबर तक रहेगा। पितृ पक्ष के दौरान शुभ और मांगलिक कार्यों पर पूरी तरह से पाबंदी लग जाती है। इस दौरान गृह प्रवेश, मुंडन, नए मकान या वाहन की खरीदारी भी वर्जित होती है। वैसे तो सभी इन दिनों में अपने-अपने पितरों का तर्पण करते हैं, लेकिन जो नहीं करते , उन्हें ये बातें जान लेना जरूरी है।

पितृ पक्ष के दौरान सभी पूर्वज अपने परिजनों को आशीर्वाद देने पृथ्वी पर आते हैं, और उनके पुत्र आदि उन्हें तर्पण करते हैं वो सीधा उन तक पहुंचता है। इसलिए इन 15 दिनों में  उन्हें प्रसन्न करने के लिए तर्पण, श्राद्ध और पिंड दान किया जाता है। पितृपक्ष में ब्रह्मणों को कराए गए भोजन दान-धर्म के कार्यों से पूर्वजों की आत्मा प्रसन्न होती है और उन्हें शांति मिलती है, साथ ही पितृ ऋण से मुक्ति मिलती है। 

कब से कब तक शुरू होते हैं श्राद्ध
पितृ पक्ष भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा से शुरू होता है और आश्विन मास की अमावस्या तक रहता है। 

कब करें तर्पण
जिस तिथि को पितरों की मृत्यु हुई हो उस तिथि को उनके नाम से श्रद्धा व यथाशक्ति ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए। भोजन गाय, कौओं व कुत्तों को भी खिलाएं। पितृ पक्ष के अंतिम दिन सर्व पितृ अमावस्या के दिन पितरों के निमित्त ब्राह्मणों को भोजन कराया जाता है। इस दिन भूले बिसरे, अज्ञात पितरों सभी का श्राद्ध किया जाता है। 

वैसे तो कहा जाता है जिस पितर की मृत्यु जिस दिन हुई हो, उसी दिन उनका श्राद्ध करना चाहिए, लेकिन घर की माता, दादी का श्राद्ध नवमी के दिन किया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि नवमी तिथि सौभाग्यशाली तिथि है। ऐसी भी मान्यता है कि चाहें मां या दादी का निधन किसी भी तिथि में हुआ हो, लेकिन उनका श्राद्ध नवमी को करना चाहिए। 

कुंडली में पितृ दोष दूर करने के लिए पितृपक्ष का समय सबसे अच्छा माना जाता है। इन दिनों पितरों को खुश करने के लिए और उनका आर्शीवाद पाने के लिए कई तरह के उपाय किए जाते हैं।

  • pitru paksha 2022 tithi
  • pitru paksha 2022 calendar
  • pitru paksha 2022 start date and time
  • shradh 2022 tithi
  • shradh 2022 ekadashi
  • shradh 2022 tithi calendar
  • shradh 2022 date in india calendar
  • pitra shradh 2022 date
  • shradh paksh
  • shradh dates in 2022
  • pitru paksha 2022 start date and time
  • shradh 2022 april
  • pitru paksha 2022 march
  • sharad 2022 september
  • mahalaya paksha 2022
  • shradh 2022 start date and end date in hindi
  • shradh 2022 tithi
  • पितृ पक्ष कब से शुरू है 2022
  • श्राद्ध कब से शुरू है 2021 list
  • कनागत कब से शुरू है 2022
  • पितृ पक्ष कब से है 2022
  • पितरपख कब से शुरू है 2022
  • पितृ विसर्जन कब है 2022
  • पितृ पक्ष 2022 प्रारंभ दिनांक और समय
  • नवरात्रि कब से शुरू है 2022

Related Post

error: Content is protected !!
call now